Breaking News

लखनऊ व मोहन लालगंज संसदीय सीट पर लोगों का विरोध तेज हो गया है। नाराज लोगों ने वोट न देने की चेतावनी दे डाली है।

मतदान के विरोध में लोगों ने बैनर लगाया। - Dainik Bhaskar
मतदान के विरोध में लोगों ने बैनर लगाया।

सड़क व नाली न बनाए जाने के विरोध में लखनऊ व मोहन लालगंज संसदीय सीट पर लोगों का विरोध तेज हो गया है। नाराज लोगों ने वोट न देने की चेतावनी दे डाली है। रविवार को शहीद भगत सिंह वार्ड, पंडित दीन दयाल पुरम योजना, इंदिरा नगर के लोगों ने लोकसभा चुनाव में मतदान का बहिष्कार करने की चेतावनी दी है।

स्थानीय लोगों के अनुसार 20 वर्षों से सड़क और नाली नहीं बनी है। कालोनी के मुख्य प्रवेश पर बैनर टांग दिया है जिस पर लिखा है कि ‘जब तक 80 मीटर रोड नहीं, तब तक आपको वोट नहीं’। इससे पहले भी राजधानी में सड़क नहीं होने पर लोग वोट का विरोध कर चुके है।

जनप्रतिनिधियों पर निकल रहा गुस्सा

नाराज लोगों का गुस्सा सरकारी विभागों के साथ – साथ जनप्रतिनिधियों पर निकल रहा है। विरोध में नारेबाजी कर रहे हैं।लोगों का कहना है कि प्रत्याशी वोट मांगने आएगा तो वापस जाओ के नारे लगाकर उसका विरोध करेंगे। कालोनी निवासियों ने ‘रोड नहीं तो वोट नहीं’ के नारे लगाए। सैकड़ों पर घरों पर ‘रोड नहीं तो वोट नहीं’ लिखे पोस्टर चिपकाए गए हैं। कालोनी वासियों की मांग है कि तत्काल सड़क बनाई जाए। इसकी जानकारी होने पर स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंच गई। कॉलोनीवासी नारेबाजी पर अड़े रहे।

पंडित खेड़ा में लोग मतदान का बहिष्कार कर चुके हैं।
पंडित खेड़ा में लोग मतदान का बहिष्कार कर चुके हैं।

चुनाव में वायदा कर उनको छला जा रहा है

लोगों का कहना है कि हर चुनाव में झूठा वादा करके हमको छला जा रहा है। लोगों का कहना है सांसद, विधायक, महापौर और नगर निगम कार्यालय तक चक्कर लगाए, लेकिन किसी ने नहीं सुनी। सालों पुरानी इस कालोनी की मुख्य सड़क को छोड़कर आसपास की सड़कें नहीं बनी हैं। नाली न बनी होने से पानी की निकासी सही नहीं है। बरसात आने वाली है फिर समस्या से दो-चार होना पड़ेगा। नालियों का पानी खाली प्लाट में जा रहा है। लोगों की मांग है कि सड़क के दोनों ओर नाली बनाकर पानी की निकासी सुचारु की जाए और सड़क बनाई जाए। सड़क नहीं बनने से तीन हजार की आबादी लोकसभा मतदान का बहिष्कार करेगी।

500 से ज्यादा सड़क खराब पड़ी है

नगर निगम के 8 जोन को जोड़ दिया जाए तो शहर में छोटी-बड़ी करीब 500 से ज्यादा सड़क खराब पड़ी है। इसमें से आउटर इलाकों में आने वाली सड़कों की संख्या सबसे ज्यादा है। नगर निगम कई बार बजट न होने की बात कर उन सड़कों को बनाने से मना भी कर चुका है। स्थानीय लोग पार्षद, मेयर, विधायक और एमपी तक को पत्र लिखते रहे हैं लेकिन सड़क नहीं बन पाती है।

About admin

Check Also

इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बैंच ने जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद एक अपार्टमेंट व एक होटल के अवैध निर्माण ?

इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बैंच ने जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद एक अपार्टमेंट व …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *